दोहा (Dohaa):- A couplet

जब मैं था तब हरि नहीं, अब हरि हैं मैं नाहिं।
प्रेम गली अति सॉंकरी, तामें दो न समाहिं।। ~ संत कबीरदास (Saint Kabiirdaas)

————

जब इस दिल में ” मैं ” मतलब- ” अहं ” था तो ” हरि ” (भगवान) नहीं थे। लेकिन अब इस दिल में भगवान हैं इसलिए मेरा अहं नहीं है, उसका नाश हो गया है। प्रेम का मार्ग बहुत संकरा है। इसमें सिर्फ एक चल सकता है, दो लोग नहीं। इसमें या तो मैं चल सकता हूँ या भगवान चल सकते हैं।

————

Jab is dil mein “main” matlab – ” aham” thaa to ” Harii ” (Bhagwaan) nahiin the. Lekin ab is dil mein Bhagwaan hain isliye meraa aham nahiin hai, uskaa naash ho gayaa hai. Prem kaa maarg bahut sa(nkraa hai. Ismein sirf ek chal saktaa hai, do log nahiin. Ismein yaa to “main” chal saktaa huun yaa Bhagwaan chal sakte hain.

————

When in this heart “the self ” meaning – “ego” was residing, then God was not there. But now God resides in this heart and “the self”, ego has been destroyed. The passage of love is very narrow. 2 people cannot go by, in this passage. Only one can travel in this passage. Either the self or God. In other words, total surrender is essential in the passage of love or attainment of God.

 

kabir